आपमें ये 5 समस्याएं बन सकती हैं बांझपन का कारण

बांझपन का कारण कई स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ा हो सकता है। इन स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का इशारा समझना बहुत जरूरी होता है। समय पर बांझपन का कारण पता चलने पर इसका इलाज किया जा सकता है। आइए जानते हैं कि किन 5 मुख्य स्वास्थ्य समस्याओं की वजह से बांझपन हो सकता है।

IVF specialist dr. Shweta Goswami
Dr. Shweta Goswami

महिलाओं में बांझपन से जुड़ी परेशानियों के बारे में सांझ संजोली पत्रिका ने जीवा फर्टिलिटी की मेडिकल डायरेक्टर डॉ0 श्वेता गोस्वामी से बात की

एंडोमेट्रियोसिस

एंडोमेट्रियोसिस की समस्या बहुत आम है। एक अनुमान के मुताबिक प्रत्येक 10 में से 1 महिला को इससे जूझना पड़ता है। माहवारी के समय बहुत अधिक दर्द इसका मुख्य लक्षण है। गंभीर परिस्थितियों में आंत और गर्भाशय इससे प्रभावित होते हैं। हार्माेनल थेरेपी और दवा से इसका इलाज किया जाता है। कुछ मामलों में एंडोमेट्रियोसिस से प्रभावित क्षेत्रों को हटाने के लिए सर्जरी भी की जाती है। एंडोमेट्रियोसिस की वजह से अधिकतर मामलों में बांझपन की समस्या नहीं होती है। लेकिन कुछ मामलों में बांझपन की समस्या हो सकती है।

पीसीओएस

पीसीओएस की वजह से अनियमित या पीरियड्स न आना देखा जाता है। साथ ही वजन बढ़ना, मुंहासे और तनाव इसके लक्षण हो सकते हैं। इसमें ओव्यूलेशन की समस्या भी हो सकती है। इसलिए पीसीओएस से पीड़ित महिलओं में बाझपन की समस्या देखी जाती है।

फाइब्रॉएड

यह गर्भाशय की मांसपेशियों के भीतर विकसित होने वाली समस्या है। फाइब्रॉएड में पीरियड्स के दौरान अधिक दर्द और संभोग के दौरान गंभीर असुविधा देखने को मिल सकती है। फाइब्रॉएड के स्थान और आकार के आधार पर इसे बांझपन के संभावित कारण के रूप में देखा जाता है।

फैलोपियन ट्यूब में रूकावट

फैलोपियन ट्यूब में जब कोई रूकावट होती है तो अंडे गर्भाशय तक पहुंचने में असमर्थ हो जाते हैं, जिसकी वजह से गर्भधारण करने में परेशानी हो सकती है। कुछ मामलों में, महिलाएं गर्भधारण करने में सक्षम हो सकती हैं, लेकिन निषेचित अंडा फैलोपियन ट्यूब में फंस सकता है। जिससे कुछ अन्य परेशानयों का सामना करना पड़ सकता है।

कुछ मामलों में पेट की सर्जरी, श्रोणि सूजन की बीमारी (पीआईडी) और यौन संक्रमण भी फैलोपियन ट्यूब को नुकसान पहुंचा सकते हैं। गंभीर मामलों में सर्जरी की आवश्यकता भी पड़ सकती है।

थायराइड

थायराइड जैसी समस्या महिलाओं के स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित कर सकती है। इस समस्या से जुड़े लक्षण कई बार बहुत देर से समझ में आते हैं। थायराइड के लक्षण जैसे कि थकान, त्वचा, बाल का अधिक झड़ना, वजन में तेजी से बदलाव, जोड़ों और मांसपेशियों में अधिक दर्द आदि इस समस्या की तरफ इशारा करते हैं।

हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करें। आप सांझ संजोली पत्रिका से इस्टाग्राम पर जुड़ सकते हैं। आपको बेहतर और सटीक जानकारी प्रदान करना ही हमारा लक्ष्य है।
यह भी पढ़ेंः