गाजियाबाद की अभिजीता (Abhijita Gupta) ने किया छोटी उम्र में बड़ा कारनामा

गाजियाबाद।।  सेकेंड क्लास में पढ़ने वाली 7 साल की अभिजीता (Abhijita Gupta) को इंटरनेशनल बुक ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा ‘वर्ल्ड यंगेस्ट ऑथर’ (World’s youngest author) के रूप में मान्यता दी गई है। छोटी उम्र में ये मुकाम हासिल करना बहुत सराहनीय है। ऐसा करके अभिजीता ने अपने माता-पिता के साथ-साथ अपने शहर गाजियाबाद का भी नाम रोशन किया है। ‘हैप्पीनेस ऑल अराउंड’ नामक लघु कथा और कविताओं के संकलन से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाठकों की सराहना पाने वाली अभिजीता गुप्ता को इंटरनेशनल बुक ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा ‘वर्ल्ड यंगेस्ट ऑथर’ के रूप में मान्यता दी गई है, जबकि एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने ‘ग्रैंड मास्टर इन राइटिंग’ के खिताब से सम्मानित किया है। इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के अनुसार, वह कविता और गद्य लिखने वाली सबसे कम उम्र की लेखिका हैं। पुस्तक में संकलित कहानियां और कविताएं जहां 7 साल के बच्चे की संज्ञानात्मक क्षमता और रुचियों की जानकारी देती है वहीं इलस्ट्रेशन उनकी कल्पना को दर्शाते हैं।

लेखन को सकारात्मकता का अमृत मानने वालीं अभिजीता को यह प्रेरणा समृद्ध साहित्यिक विरासत से मिली है। प्रसिद्ध कवि राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त और संतकवी श्री सियारामशरण गुप्त की तीसरी पीढ़ी से आने वालीं अभिजीता की रचनात्मकता पाठकों को खूब आकर्षित कर रही है। वर्तमान में कक्षा दूसरी की छात्रा अभिजीता ने महज 5 वर्ष की उम्र में लिखना शुरू कर दिया था। कोविड-19 के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान उन्होंने अपनी सकारात्मकता को बनाए रखने के लिए लेखन का सहारा लिया। इसी दौरान उन्होंने अधिकांश लेखन किया। हालांकि उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनकी यह मेहनत उन्हें “ग्रैंड मास्टर” के खिताब तक पहुंचा देगी।

7 years old Abhijita Gupta
Abhijita Gupta

लेखन के लिए अपने जुनून के बारे में बताते हुए अभिजीता ने बताया कि छोटी-छोटी चीजें भी मुझे लेखन के लिए प्रेरित करती हैं। मैं सकारात्मक चीजों के बारे में लिखती हूं। जो मैं सुनती हूं, देखती हूं और महसूस करती हूं उसे ही शब्दों में समेटती हूं।‘ अभिजीता ने अपनी पसंदीदा कविताओं में ‘मदर अर्थ’, ‘लेट्स ट्राई, लेट्स फ्लाई, ‘स्टडी इज माय बेस्ट बडी’ और ‘प्रेशस फ्रेंडशिप’ के बारे में भी बताया। अभिजीता अपने पिता आशीष गुप्ता और मां अनुप्रिया गुप्ता से हमेशा प्रोत्साहन पाती हैं और वह अपने माता-पिता के साथ गाजियाबाद में रहती हैं।

अभिजीता की उपलब्धि पर माता-पिता ने कहा, “हर माता-पिता का सपना होता है कि वह अपने बच्चों के नाम से जाने जाएं। हम खुशकिस्मत हैं कि हमारी जिंदगी में यह समय बहुत जल्द आ गया। अभिजीता की किताब समाज पर सकारात्मक प्रभाव छोड़ेगी और उनकी उम्र के बच्चों को प्रेरित करेगी।” ‘हैप्पीनेस ऑल अराउंड’ (Happiness All Around) बच्चों के लिए, बच्चों द्वारा लिखी गई चुनिंदा किताबों में से एक है। यह किताब इन्विन्सबल पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित की गई है।

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *