बालों का झड़ना करता है परेशान? तो ये खबर आपके लिए है!

आज की व्यस्त और अनहैल्दी जीवनशैली में बालों का झड़ना बहुत आम है। पुरुष हो या महिला, बाल झड़ना एक समस्या है जिसका सामना हर किसी को करना पड़ता है। पुरुषों की तरह महिलाओं में, बालों के झड़ने का सबसे संभावित कारण एंड्रोजेनिक अलोपेसिया (AGA) है। माना जाता है कि महिला के AGA का मुख्य कारण एंड्रोजेनिक (पुरुष) हार्मोन के उत्पादन और बालों के रोम पर उनके प्रभाव से संबंधित है – वही एंड्रोजेनिक अलोपेसिया (पुरुष पैटर्न गंजापन) के लिए जिम्मेदार सबसे प्रमुख कारण है।

डर्मेटोलॉजिस्ट व एस्थेटिक फिजिशियन डाॅक्टर अजय राणा से प्राप्त जानकारी के आधार पर

हालांकि, महिलाओं में बालों का झड़ना महिला पैटर्न के गंजेपन के अलावा अन्य कारणों से भी हो सकता है जैसे कि उपचार से बालों को तोड़ना और बालों को मोड़ना या खींचना, स्किन के कुछ रोग जो बालों के रोम को झुलसाने का कारण बनते हैं; हार्मोनल इम्बैलेंस, आयरन की कमी या विटामिन की कमी, कीमोथेरेपी और बीटा ब्लॉकर्स जैसी दवाएं; एक बड़ी बीमारी, सर्जरी, या गर्भावस्था के बाद बालों की अस्थायी छंटनी भी बालों के झड़ने की बड़ी वजह है।

बालों का पतला होना

महिलाओं में बालों का पतला होना गंजेपन के पुरुष पैटर्न से अलग होता है। महिलाओं के बाल मुख्य रूप से सिर के स्किन के शीर्ष और ऊपर की ओर पर रहते हैं। बालों का झड़ना महिलाओं में गंजापन को बढ़ाता है, जिसके कारण “क्यू-बॉल” का विकास होता है, जिसे अक्सर पुरुष-पैटर्न एंड्रोजेनिक अलोपेसिया में देखा जाता है। महिला पैटर्न बाल्डनेस  और हेयर फॉल का मतलब यह बिलकुल  नहीं है कि उस महिला को कोई मेडिकल बीमारी है ।

ज्यादातर मामलों में, बालों का झड़ना हल्का या मध्यम होता है। एक स्थायी और अधिक संपूर्ण समाधान के लिए आप हेयर ट्रांसप्लांटेशन पर विचार कर सकते हैं। अधिकांश मामलों में डॉक्टर बिना किसी डाउनटाइम वाले हेयर ट्रांसप्लांटेशन के लिए मैनुअल और टेक्नोलॉजी से उन्नत रोबोटिक सिस्टम दोनों का उपयोग करते हैं।

महंगे कॉस्मेटिक्स, कंडीशनर और शैंपू

बालों के झड़ने की समस्या को रोकने के लिए कई लोग बाजार में उपलब्ध महंगे कॉस्मेटिक्स, कंडीशनर और शैंपू का भी इस्तेमाल करते हैं। लेकिन बहुत से लोग यह नहीं समझते हैं कि इन कॉस्मेटिक्स के प्रभाव से उनके बालों की जड़ को नुकसान पहुंच सकता है। क्योंकि ज्यादातर लोगो को यह समझ ही नहीं है की शैम्पू और कंडीशनर हमारे बालों के लिए किस प्रकार से हानिकारक और डेंजरस है । शैम्पू एक क्लीनर है, यह आपके बालों से सभी गंदगी और जमी हुई गंदगी को बाहर निकालने वाला है। आजकल हेयर प्रोडक्ट्स का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है क्योंकि बाल आपकी  पर्सनैलिटी का वह पहलू है जो आपके लुक को पूरा करता है।

शैंपू, कंडीशनर, जैल और सीरम आपके बालों को कुछ दिनों के लिए सही बना सकते हैं, लेकिन लंबे समय में वे आपके बालों को नुकसान पहुंचाने के अलावा कुछ नहीं कर रहे हैं। इस तरह के कॉस्मेटिक्स बालों की मात्रा और क्वालिटी, अत्यधिक डैंड्रफ, बालों का पतला होना या सिर के  स्किन की लालिमा को प्रभावित करते हैं।

हेयरस्प्रे

हेयरस्प्रे और भी खतरनाक होते हैं क्योंकि वे बालों के नुकसान और बालों के बालों के नेचुरल कलर को कम करने के परिणामस्वरूप हो सकते हैं। हेयर कलर और हेयर डाई विषैले होते हैं क्योंकि एलर्जी के कारण इनसे जलन, रेडनेस, सिर की खुजली , सांस लेने में तकलीफ और चेहरे पर सूजन हो सकती है। हेयर डाई केमिकल्स होते है जो बहुत नुकसान दायक होते हैं और यह कैंसर, रिप्रोडक्टिव फेलियर और फेफड़ों को नुकसान जैसी बीमारियों का कारण बन सकते हैं।

आज कल बहुत से लोग बालों के झड़ने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए लेजर जैसी आधुनिक तकनीकों का उपयोग करते हैं। लेकिन, कई लोगों को ये गलत धारणाएं हैं जैसे कि लेजर और एस्थेटिक मेडिसिन ट्रीटमेंट बालों के झड़ने का कारण बनता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होगा और आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है। लेकिन तथ्य यह है कि  लेजर पेनेट्रेशन की गहराई 1-4 मिमी है, यह केवल बालों के रोम तक पहुंचती है, और फिर पूरी तरह से विघटित होती है और गहराई से प्रवेश नहीं करती है। एलएलएलटी (निम्न स्तर की लेजर थेरेपी) जैसे कमजोर लेज़र जो बालों को हटाने के बजाय बाल उगाने में मदद करते हैं !

हेयर फॉल से बचने के कुछ टिप्स

  • वैसे हेयर स्टाइल से बचें जो हेयरलाइन पर पर जोर देते है।
  • हीट देने वाले हेयर उपकरणों के इस्तेमाल से बचे, क्योंकि यह बालों को जला कर उन्हें नुकसान पहुंचाते है।
  • हेयर फॉल को कम करने के लिए एक रेगुलर दवा का ही उपयोग करे।
  • स्वस्थ आहार खाएं, जो हेयर के अच्छे ग्रोथ के लिए काफी फायदेमंद होते है।
  • उन उपचारों से बचें, जो आपके बालों को तोड़ सकते हैं या उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं, जैसे कि स्ट्रेटनिंग इरॉन्स
सांझ संजोली पत्रिका से जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः