Covid-19: कोरोना वायरस के बारे में इन गलत धारणाओं के बारे में जानें

कोरोना वायरस ने पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले रखा है, हर दिन हजारों की संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं। इस वायरस से बचने के लिए तैयार हो रही दवा का ट्रायल के अंतिम चरण में है, वायरस को लेकर कई लोगों ने अपने मन में कई तरह की भ्रांतियां पाल रखी हैं। जिन्हें दूर किया जाना बहुत जरूरी है। दवा के आने तक इस वायरस से बचाव का सही तरीका इससे बचाव के तरीकों के बारे में सही जानकारी का होना है। आइए जानते हैं कुछ गलत धारणाओं के बारे मेंः

बच्चे कोरोना वायरस को फैला नहीं कर सकते हैं।
अभी तक अधिकतर मामलों में देखा गया है कि बच्चों को वयस्कों की तुलना में गंभीर रूप से संक्रमित होने की संभावना कम हो सकती है, लेकिन नवीनतम आंकड़ों से संकेत मिलता है कि वे कोरोना वायरस को अन्य बच्चों और वयस्कों दोनों में फैला सकते हैं। इसलिए ये मान लेना कि बच्चों को इस वायरस से बिल्कुल खतरा नहीं है गलत धारणा है। आप अपने बच्चों के सुरक्षा उपायों में कोई भी कमी न रखें और उन्हें भी जागरूक बनाएं।

लगातार फेस मास्क पहनने से शरीर मे ऑक्सीजन की कमी हो जाती है।
फेस मास्क पहनना असहज हो सकता है, लेकिन उनके उपयोग से शरीर में ऑक्सीजन की कमी नहीं होती है। दरअसल कोरोना वायरस व्यक्ति से व्यक्ति में सांस की बहुत छोटी-छोटी बूंदों के माध्यम से फैलता है जब एक संक्रमित व्यक्ति खांसता है, छींकता है, या यहां तक कि बोलता है तो सामने खड़े व्यक्ति में इसके फैलन के आसार बढ़ जाते हैं। मास्क इस प्रसार को रोकने में मदद करते हैं। इसलिए बहुत जरूरी है कि आप सुनिश्चित करें कि आप मास्क ठीक से पहने हुए हैं और आपका मास्क चेहरे पर अच्छी तरह से फिट है।

अगर आपको बुखार नहीं है, तब भी आपको कोरोना वायरस का संक्रमण हो सकता है।
बुखार कोरोना वायरस संक्रमण का एक सामान्य लक्षण है, लेकिन यह भी संभव है कि कोई व्यक्ति कोविड-19 से संक्रमित हो और बुखार न हो। वाशिंगटन राज्य में एक अध्ययन में पाया गया कि बुखार सभी मामलों में से आधे से अधिक में मौजूद था।
कोरोना वायरस संक्रमण में सामने आने वाले लक्षण:
बुखार या ठंड लगना
खांसी
सांस लेने में कठिनाई
थकान
मांसपेशियों या शरीर में दर्द
सिरदर्द
स्वाद या गंध का पता न चलना
गले में खरास
उल्टी या मितली आना
दस्त

लहसुन खाने और शराब पीने से कोविड-19 से बचाव होता है।
कुछ लोगों का मानना है कि लहसुन में इसमें कुछ रोगाणुरोधी गुण होते हैं, लेकिन इसका कोई सबूत नहीं है कि यह संक्रमण से बचाता है। जबकि शराब पीने से कोई लाभ नहीं होता है। इसके उलट शराब का सेवन से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचता है। यह आपके रोगों से लड़ने की क्षमता को कम कर सकता है।

कोरोना वायरस का संक्रमण पालतू जानवर से फैल सकता है।
कोविड-19 से संक्रमित जानवरों के मामले दुर्लभ हैं। ज्यादातर संक्रमित मनुष्यों के संपर्क में आने के बाद ही ये वायरस फैलता है। प्रसारित जानकारी के अनुसार अभी तक इस बात का कोई सबूत नहीं है कि पशु कोरोना वायरस को फैलाने में भूमिका निभाते हैं। हालांकि, पालतू जानवर अन्य बीमारियों को लोगों में फैला सकते हैं, इसलिए जानवरों के नजदीकी संपर्क में आने के बाद कम से कम 20 सेकंड के लिए साबुन और पानी से अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं।

यह भी पढ़ेंः