क्या आपको भी सर्दियों में पैरों में खुजली करती है परेशान? ये रहा समाधान!

कई बार सर्दियों में पैरों में खुजली होना (Sardiyo me pairo me khujli hona) जैसी समस्याएं बहुत ज्यादा परेशान करती है। दरअसल सर्दियों के मौसम में पैरों की खास देखभाल करनी जरूरी होती है। हवा में नमी कम होने की वजह से त्वचा बहुत अधिक सूख जाती है। सूखेपन की वजह से कई स्किन से संबंधित समस्याएं जैसे पैरों में खुजली आदि जन्म ले लेती हैं। इनसे बचने के लिए कुछ तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। आइए जानते हैं सर्दियों में पैरों में खुजली होना कैसे रोका जा सकता है?

त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉक्टर करूणा मल्होत्रा (Dr. Karuna Malhotra) से बातचीत पर आधारित

पैरों को रखें साफ

सर्दियों के मौसम में जूते और ऊनी मोज़े आपके पैरों को गर्म रखते हैं। लेकिन लगातार बंद रहने की वजह से उनमें पसीना आता है। पैरों में लगातार नमी बने रहने से बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण का खतरा होता है। इससे निपटने के लिए आप फुट पाउडर का इस्तेमाल कर सकते हैं। ये आपके पैरों को सूखा रखने में मदद कर सकता है।

बहुत अधिक सूखापन

नमी के साथ-साथ बहुत अधिक सूखे पैर भी खुजली जैसी समस्याओं को पैदा कर सकते हैं। आपके घर में नमी बनाए रखने के लिए ह्यूमिडिफायर एक उचित विकल्प हो सकता है। इसके साथ बहुत ज्यादा गर्म पानी से नहाने से बचें। बहुत गर्म शावर लेने से ये आपके पैरों से नमी खींच सकते हैं। साथ ही नहाने के बाद अपने पैरों को तौलिये को जोर से रगड़ने के बजाय थपथपाएं। अपने पैरों को अधिक रगड़कर से सुखाने से अतिरिक्त सूखापन हो सकता है।

आरामदायक जूते

ऐसे जूते पहनें जो आराम से फिट हों और जो बहुत टाइट न हों। तंग जूते रक्त के प्रवाह को कम कर सकते हैं, जिससे आपके पैरों को गर्म रखना कठिन हो जाता है। जूते ऐसे होने चाहिए जिनमें आप अपने पैर की उंगलियों को हिलाने में सक्षम हों। लेकिन आपकी एड़ी जूते के पिछले हिस्से में अच्छे से फिट होनी चाहिए। पैर की चोटों को रोकने के लिए फुटवियर का ठीक से फिट होना जरूरी है।

पैरों की सफाई

रोजाना अपने पैरों को अच्छे से धोएं। पैरों को साफ रखने से नाखूनों में फंगस और अन्य अप्रिय समस्याओं से बचा जा सकता है। मोज़े और जूते फिर से पहनने से पहले सुनिश्चित करें कि आपके पैर पूरी तरह से सूखे हों। याद रखें कि अपने मोजे रोज बदलें। संक्रमण को बचने के लिए समय-समय पर अपने पैरों को नमक और हल्के गुनगुने पानी में कुछ देर लगभग 10 मिनट भिगोकर रखना अच्छा विकल्प हो सकता है।

सर्दियों में त्वचा की देखभाल

सर्दियों में त्वचा और नाखूनों में नमी कम हो सकती है। जब आपकी त्वचा सूख जाती है, तो उसमें दर्दनाक दरारें, और संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। मधुमेह वाले लोगों में ये समस्या और ज्यादा हो सकती है। याद रखें कि त्वचा पर रोजाना एक अच्छे मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करें। नहाने या शॉवर के तुरंत बाद मॉइस्चराइजर लगाना बहुत अच्छा रहता है।

त्वचा रोग विशेषज्ञ

कई बार त्वचा संबंधी समस्या होने पर हम उसे नजरअंदाज कर देते हैं। जिससे समस्या और ज्यादा जटिल हो जाती है। परेशानी बढ़ने पर हम विशेषज्ञ के पास जाते हैं। जबकि आपको समस्या के सामने आते ही किसी अच्छे त्वचा रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना जरूरी होता है। देरी आपकी परेशानी और बढ़ा सकती है। त्वचा में अधिक सूखापन, खुजली, लाल चकत्ते आदि नजर आने पर खुद से ईलाज करने की बजाए डॉक्टर के पास जाना चाहिए। देरी करना और अधिक नुकसानदायक हो सकता है।

सांझ संजोली पत्रिका से जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः