“दवाई भी-कड़ाई भी” इस मंत्र को न भूलेंः प्रधानमंत्री

राम नवमी और रमजान का किया जिक्र और उससे शिक्षा लेने की बात कही

1 मई से 18 साल से अधिक आयु वाले लोगों को भी टीका लगाया जाएगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश को संबोधित करते हुए, कोरोना वायरस से लड़ाई में सरकार की तमाम कोशिशों का जिक्र किया। पीएम मोदी ने लोगों से तमाम एतिहात बरतने की गुजारिश की है। साथ ही लाॅकडाउन की तमाम अटकलों को विराम देते हुए, अंतिम विकल्प के रूप में बताया है। आइए जानते है पीएम नरेंद्र मोदी के संबोधन की कुछ मुख्य व महत्वपूर्ण बातों कोः

देश की जनता को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में रोजगार और टीका साथ चलेंगे। राज्यों से भी अपील है कि लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के तौर पर ही ले। उन्होंने कहा कि अगर समाज खुद से उठ खड़ा हो तो फिर लॉकडाउन जैसे कदम की जरूरत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इस जागरुकता के अभियान के लिए सामाजिक संगठनों को आगे आने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह प्रयास रहना चाहिए कि डर का माहौल कम हो सके। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम देशवासियों की भी सेहत सुधारेंगे और अर्थव्यवस्था का भी सुधार करेंगे।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कल राम नवमी है और हम भगवान राम से सीख लेते हुए मर्यादाओं का सही से पालन करेंगे। हमें दवाई भी और कड़ाई भी की नीति का पालन करना होगा। इसके साथ ही रमजान अनुशासन का प्रतीक है और कोरोना में भी इससे सीख मिलती है। उन्होंने कहा कि कई राज्यों में ऑक्सीजन की किल्लत है, इसे दूर करने के लिए कारगर कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि देश में इतना मजबूत फार्मा सेक्टर है। कुछ शहरों में बड़े कोविड अस्पताल भी बनाए जा रहे हैं।

हमने वैक्सीनेशन में बहुत तेजी से 10 करोड़, 11 करोड़ और फिर 12 करोड़ के टारगेट को हासिल किया है। पीएम मोदी ने कहा कि हमने कल ही फैसला लिया है कि अब 1 मई से 18 साल से अधिक आयु वाले लोगों को भी टीका लगाया जाएगा। इसके अलावा 45 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को भी पहले की तरह ही टीका लगता रहेगा।
उन्होंने कहा कि 18 साल से अधिक आयु वाले लोगों को टीका लगाए जाने से वर्कफोर्स तक दवा पहुंचेगी। पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्यों से अपील की कि वे मजदूरों को भरोसा दिलाएं कि शहरों को छोड़कर न जाएं और जहां हैं, वहीं रहें। उन्होंने पीड़ित परिवारों से संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि जिन लोगों ने बीते दिनों में अपनों को खोया है, उनके प्रति मैं अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। पीएम ने डाॅक्टरों को धन्यवाद दिया और कहा कि परिवार और अपनी सुविधाओं को छोड़कर लोगों को बचाने में जुटे सभी डाॅक्टरों को धन्यवाद।

 

यह भी पढ़ेंः