गाउट के घरेलू इलाज में मददगार है ये उपाय!

गाउट के घरेलू इलाज : गाउट या गठिया की समस्या से अधिकतर लोग परेशान रहते हैं, कुछ कम तो कुछ लोग ज्यादा। गाउट ये पीड़ित व्यक्तियों में यूरिक एसिड बढ़े होने की बात सामने आती है। यूरिक ए:सिड का बढ़ा हुआ स्तर अधिकतर मामलों में चॉकलेट, सी-फूड, या रेड वाइन जैसे खाद्य पदार्थों के ज्यादा सेवन से होता है। शरीर में बढ़ा हुआ यूरिक एसिड जोड़ों में जम जाता है। बढ़ा हुआ यूरिक एसिड मुख्य रूप से पैर की उंगलियों, टखनों, हाथों और कलाई में जम जाता है, जिससे मरीज गाउटी आर्थराइटिस से पीड़ित हो जाता है और यही दर्दनाक सूजन पैदा करता है। गंभीर मामलों में, बढ़ा हुआ यूरिक एसिड गुर्दे की पथरी और गुर्दे की नलिकाओं में भी रुकावट पैदा कर सकता है।

गाउट की समस्या महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक सामने आती है। अधिकतर मामलों में यह समस्या 50 साल तक सामने आती है। अगर आपके माता-पिता को गठिया है तो आपको स्वयं भी गठिया से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है। गाउट पीड़ित मरीजों के प्रभावित जोड़ों में तेज दर्द होता है, जिसके बाद उस हिस्से में सूजन, लालिमा आ जाती है। कुछ लोगों को दर्द इतना तेज होता है कि जोड़ हल्का स्पर्श भी दर्द देता है। इससे पीड़ित मरीजों में दर्द कुछ घंटो से लेकर कई दिनों तक बना रह सकता है।

किन लोगों को होता है गाउट से अधिक खतरा

मोटापे से पीड़ित व्यक्ति में
अत्यधिक वजन बढ़ जाने पर
अधिक शराब का सेवन से
उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति में
गुर्दों के सही तरह से काम न करने पर
कुछ दवाएं के साइडइफेक्ट्स की वजह से भी ये समस्या सामने आ सकती है

गाउट के घरेलू इलाज

गाउट के घरेलू इलाज के रूप में सबसे पहले अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना गठिया की समस्या को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। दिन भर में खूब पानी पिएं। सही मात्रा में पानी शरीर में यूरिक एसिड की वजह से गुर्दे की समस्या होने से भी बचाता है। इसकी वजह से गुर्दे की पथरी या गुर्दे अन्य बीमारियों का जोखिम कम होता है। इसके साथ ही शराब के सेवन से बचें। शराब शरीर के यूरिक एसिड की मात्रा को बढ़ा सकती है। अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है, तो यह आपके जोड़ों में गाउट के की समस्या का बड़ा कारण बन सकता है। इसी वजह पर्याप्त मात्रा में पानी पीना गाउट की समस्या का सबसे बढ़िया घरूलू इलाज है।

इसके साथ-साथ वजन घटाना भी गाउट के हमलों से बचने का एक तरीका है। एक नियमित व्यायाम आपको गाउट या गठिया जैसी समस्याओं से बचा सकता है। गाउट से पीड़ित व्यक्ति को भी कई बार डाॅक्टर हल्के व्यायाम करने को बोलते हैं। लेकिन इस बात का भी ध्यान रखें कि अगर कोई व्यक्ति गाउट से पीड़ित है तो उसे डाॅक्टर की सलाह से ही व्यायाम को चुनना चाहिए वरना आपकी तकलीफ बढ़ भी सकती है।

सांझ संजोली पत्रिका से जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः