डेंगू से बचाव कैसे करें और इसके शुरूआती लक्षणों को कैसे पहचाने

देश में इन दिनों डेंगू बुखार का प्रकोप देखने को मिल रहा है। आपके मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि डेंगू से बचाव कैसे करें । विशेष रूप से उत्तर भारत के कुछ इलाकों में डेंगू के कई मामले हर दिन सामने आ रहे हैं। डेंगू बुखार विशेष मच्छर के काटने से होता है। कुछ मामलों में ये बुखार जानलेवा भी साबित होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अभी तक डेंगू के लिए विशेष टीका उपलब्ध नहीं है। इसलिए डेंगू से बचने के लिए मच्छरों द्वारा काटे जाने से बचना जरूरी है।

डेंगू से बचाव कैसे करें

डेंगू से बचाव के लिए सबसे जरूरी है कि मच्छरों के काटने से बचाव सही प्रकार से किया जाए।

कपड़ों पर इस्तेमाल करें मच्छर को दूर रखने वाली दवा

बाजार में घर से बाहर मच्छरों से बचने के लिए कपड़ों पर लगाई जाने वाली कई दवाएं उपलब्ध हैं। उनका प्रयोग किया जाना अच्छा रहता है। उन दवाओं की गंध मच्छरों को आपके दूर रखने में कारगर साबित हो सकती है। बच्चों के कपड़ों में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है।

आपके कपड़े

घर से बार आपके कपड़े आपको मच्छरों से दूर रख सकते हैं। घर से बार ढीले और आरामदायक कपड़ों को पहन कर निकलें। टाइट-फिटिंग कपड़ों के उपर से मच्छर आपको आसानी से काट सकते हैं। कोशिश करें कि लंबी व पूरी बाजू की शर्ट, फुल पैंट और मोज़े व जूतों का प्रयोग करें। जिससे आपके शरीर का कम से कम अंग खुला हुआ हो।

मच्छरदानी का प्रयोग

सोते समय मच्छरों के काटने का खतरा सबसे अधिक होता है। घर में मच्छरों को भगाने वाली मशीन के प्रयोग के साथ-साथ आप मच्छरदानी का प्रयोग भी करें। मच्छरदानी आपसे मच्छरों को दूर रखने में कारगर साबित हो सकती है। यह मच्छरों को दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका साबित हो सकता है।

अपने आस-पास पानी इकट्ठा न होने दें

इस बुखार को फैलाने वाले मच्छर शांत पानी में प्रजनन करते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप अपने घर के आस-पास पानी को इकट्ठा न होनें दें।

डेंगू के लक्षण

डेंगू से बचाव के लिए जरूरी है कि सही समय पर लक्षणों की पहचान कर ली जाए। आइए कुछ अधिकतर देखे जाने वाले लक्षणों के बारे में जानते हैं।

  • तेज बुखार या कंपकंपी के साथ बुखार आना
  • तेज सिरदर्द
  • आँखों के पीछे के भाग में दर्द
  • मांसपेशियों में दर्द व ऐठन
  • अधिक कमजोरी महसूस होना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते दिखाई देना
  • पेट में चुभन या दर्द महसूस होना
  • भूख न लगना

ये लक्षणों के सामने आते ही बिना देर किए डॉक्टर से जांच करवाना बहुत जरूरी हो जाता है।

डेंगू का इलाज

इस बीमारी के लक्षण सामने आते ही बिना देर किए डॉक्टर से जांच अवश्य करवाएं। इसके अलावा कुछ अन्य बाते भी ध्यान में रखें, जैसे कि शरीर में पानी की कमी न होनें दें, इसके लिए सही मात्रा में पानी का सेवन जरूर करेें। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी दवा का सेवन न करें। आप दर्द और बुखार से राहत पाने के लिए पैरासिटामोल का प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

आप सांझ संजोली पत्रिका से इस्टाग्राम पर जुड़ सकते हैं। आपको बेहतर और सटीक जानकारी प्रदान करना ही हमारा लक्ष्य है।
यह भी पढ़ेंः