दस्त से हैं परेशान तो ये उपाय करेंगे मदद! Remedies for Diarrhea

दस्त होने पर क्या नहीं खाना चाहिए?

कुछ खाद्य पदार्थ दस्त को बदतर बना सकते हैं। इसलिए आपको ये जानकारी होना जरूरी है कि दस्त होने पर क्या नहीं खाना चाहिए, इन खाद्य पदार्थों में शामिल हैंः

डेयरी उत्पाद, जैसे दूध, पनीर, और आइसक्रीम
शराब
कैफीन युक्त उत्पाद, जैसे कि कॉफी
वसायुक्त तैलीय खाद्य पदार्थ
चटपटा खाना
फल, जैसे सेब, नाशपाती और आड़ू
फ्रुक्टोज युक्त पेय और खाद्य पदार्थ
कोई भी खाने योग्य पदार्थ जिसमें मिठास होती है

लक्षण जिनके दिखने पर तुरंत लें चिकित्सकीय सहायता
3 या उससे अधिक दिनों तक दस्त होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना बेहतर होता है। दस्त के लिए चिकित्सा सहायता की आवश्यकता वाले लक्षणों में शामिल हैः

गंभीर पेट दर्द
अत्यधिक सुस्ती
अधिक काला मल या मल में खून
102 डिग्री से अधिक बुखार
पेशाब का कम होना
गहरे रंग का मूत्र
अत्यधिक शुष्क त्वचा
धंसी हुई आंखें
थकान

दस्त के दौरान इन बातों का रखें खास ख्याल
खुद को अच्छी तरह से हाइड्रेट करें, दस्त के दौरान शरीर से पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स के नुकसान के परिणामस्वरूप निर्जलीकरण होता है। यदि उचित तरीके से इलाज नहीं किया जाता है, तो निर्जलीकरण गंभीर हो सकता है, खासकर बच्चों में। अगर स्तनपान करने वाले बच्चे को दस्त हो तो स्तनपान जारी रखना चाहिए, और बिना देर किए डॉक्टर की राय लेनी चाहिए। दस्त के कारण निर्जलीकरण को रोकने के लिए पुनर्जलीकरण महत्वपूर्ण है। खूब सारा पानी, साफ जूस पिएं। सुनिश्चित करें कि आप दस्त के बावजूद दिन में कम से कम तीन से चार बार खुलकर पेषाब करें।

आप घर पर ही साधारण किचन की चीजें, जैसे नमक, चीनी और पानी मिला कर रिहाइड्रेशन ड्रिंक तैयार कर सकते हैं। एक चुटकी नमक, चीनी और एक लीटर उबला हुआ और ठंडा किया हुआ पानी मिलाया जाता है। इस घोल को आप हर 20 मिनट में ले सकते हैं।

प्रोबायोटिक्स का प्रयोग करें, प्रोबायोटिक्स जीवित सूक्ष्मजीव हैं जो कुछ खाद्य पदार्थों में होते हैं, जैसे दही, दरअसल लाभकारी आंत के बैक्टीरिया आंतों के सामान्य कामकाज को बनाए रखकर पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स के सेवन से हल्के दस्त को कम करने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ेंः