किडनी रखनी है स्वस्थ्य तो इन बातों को न करें नजरअंदाज

हाइड्रेटेड रहेंः अपनी किडनी को स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन महत्वपूर्ण है। समान्य स्थिति में प्रत्येक दिन लगभग दो लीटर तरल पदार्थ पीने की सलाह दी जाती है। आप अपने व्यक्तिगत तरल पदार्थ की जरूरतों के बारे में जानने के लिए अपने डाॅक्टर से परामर्श कर सकते हैं।

खुद को सक्रिय रखेंः नियमित शारीरिक गतिविधि गुर्दे की बीमारियों और जोखिम कारकों जैसे मोटापा, उच्च रक्तचाप और मधुमेह से बचाती है।

स्वस्थ वजन बनाए रखेंः अधिक वजन या मोटापे के कारण आपको गुर्दे की बीमारियों का खतरा हो सकता है।

सेहतमंद खाएंः फलों और सब्जियों का सेवन करना और प्रोसेस्ड और वसायुक्त खाद्य पदार्थों से परहेज करना आपकी किडनी को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है। अपने कुल नमक की खपत को 5-6 ग्राम तक सीमित करें।

अपने रक्तचाप को नियंत्रित करेंः अपने रक्तचाप पर नियंत्रण रखें। उचित दवाएं लें और अपने चिकित्सक के परामर्श से स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं।

अपने ब्लड शुगर को नियंत्रित रखेंः डायबिटीज वाले कई लोगों में छोटी-छोटी बीमारी का निदान देर से होता है। आपको मधुमेह से बचने के लिए नियमित रूप से अपने रक्त शर्करा की जांच करनी चाहिए। डायबिटीज के कारण होने वाले किडनी के नुकसान को ब्लड शुगर को नियंत्रित रखकर रोका जा सकता है।

धूम्रपान छोड़ेंः किसी भी रूप में धूम्रपान, सक्रिय, निष्क्रिय या वाष्पिंग, आपके गुर्दे के लिए बुरा है। धूम्रपान से दिल की बीमारियों और गुर्दे के कैंसर का खतरा भी बढ़ सकता है।

पेन-किलर के नियमित सेवन से बचेंः दर्द निवारक दवाओं का लंबे समय तक उपयोग आपके गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता है।

पारिवारिक इतिहासः मधुमेह, उच्च रक्तचाप, मोटापा और किडनी रोगों के पारिवारिक इतिहास जैसे जोखिम वाले लोगों को गुर्दे की बीमारी का खतरा अधिक होता है। इससे बचने के लिए नियमित रूप से जांच करवानी चाहिए।

हमारे शरीर में गुर्दे कई कार्य करते हैं जैसेः

शरीर में उचित नमक-पानी के संतुलन को बनाए रखना
शरीर से विभिन्न अपशिष्ट और विषाक्त उत्पादों को फिल्टर करना
शरीर में पर्याप्त इलेक्ट्रोलाइट (जैसे सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस) संतुलन बनाए रखना
रक्तचाप को नियंत्रित करना
विटामिन डी को सक्रिय करके स्वस्थ हड्डियों को बनाए रखना
शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के स्वस्थ स्तर को बनाए रखना

कई स्थितियां है जो किसीको किडनी रोगों के खतरे में डाल सकती हैं, इसमे शामिल हैंः

उच्च रक्तचाप
मधुमेह
सिगरेट पीना
मोटापा
दिल के रोग
गुर्दे की बीमारियों का पारिवारिक इतिहास
दर्द निवारक दवाओं का बिना विषेशज्ञ की राय के अधिक सेवन
गुर्दे की पथरी
क्रोनिक (दीर्घकालिक) मूत्र पथ का संक्रमण

यह भी पढ़ेंः