कश्मीरी पंडितों की भावनाओं को महसूस करना है तो देखें: द कश्मीर फाइल्स The Kashmir Files Movie Review

द कश्मीर फाइल्स जो देख रहा है, भावनाओं से सराबोर हुआ जा रहा है। 1990 के दशक की कश्मीर घाटी में कश्मीरी पंडितों (हिंदुओं) के साथ जो हुआ वो आज भी दिलों को दहला देता है। इसी वेदना को हूबहू पर्दे पर उतारने की कारगर कोशिश का नाम है, द कश्मीर फाइल्स। फिल्ममेकर विवेक अग्निहोत्री के डायरेक्शन में बनी फिल्म द कश्मीर फाइल्स में बॉलीवुड के मंझे हुए कलाकारों ने काम किया है। कश्मीरी पंडितों के दर्द पर बनी ये फिल्म लोगों को खासी पसंद आ रही है। The Kashmir Files Movie Review

कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा दिखती “द कश्मीर फाइल्स”

एक सच्ची त्रासदी पर आधारित, भावनात्मक रूप से ट्रिगर करने वाली फिल्म 1990 के दशक की कश्मीर घाटी में अल्पसंख्यक कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा पर प्रकाश डालती है। जिन्हें आतंकवादियों द्वारा अपने घरों से भागने के लिए मजबूर किया गया था।

फिल्म में बखूबी दिखाया गया है कि कैसे विस्थापित कश्मीरी पंडित जो लगभग 30 वर्षों से निर्वासन में रह रहे हैं। उनके घरों और दुकानों पर स्थानीय लोगों द्वारा अतिक्रमण कर लिया गया है। कश्मीरी पंडित न्याय की उम्मीद करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्हें स्वीकार किया जाना चाहिए। फिल्म वास्तविक जीवन की घटनाओं को फिर से दर्शाया गया है। फिल्म में एक उम्रदराज राष्ट्रवादी, पुष्कर नाथ पंडित (अनुपम खेर), उनके चार सबसे अच्छे दोस्त और उनके पोते, कृष्णा (दर्शन कुमार) की आंखों से देखते हैं। अनुपम खेर की दिल को झकझोर देने वाली अदाकारी आपकी आंखों में आंसू ले आएगी।

बेहतरीन अभिनय

अपने खोए हुए घर के लिए तरस रहे एक व्यक्ति के रूप में, अनुपम खेर की अदाकारी दर्शकों को कुर्सी से बांधे रखती है। साथ ही पल्लवी जोशी भी उतनी ही प्रभावी हैं। उसके अभिनय कौशल को देखते हुए एक बात तो साफ है फिल्म की कहानी के साथ अभिनय भी बेहतरीन है।

फिल्म की कास्टिंग फिल्म की सफलता का एक और कारण है। ऐसा लगता है जैसे सभी एक्टर उसी किरदार के लिए बने हो। अनुपम खेर ने पुष्करनाथ के दर्द को बखूबी बयां किया है, वहीं दर्शन एक कंफ्यूज्ड यूथ के रूप में अपने किरदार को पूरी ईमानदारी से जीते हैं। कहानी में विलेन चिन्मय मांडलेकर, प्रोफ़ेसर के रोल में पल्लवी जोशी के साथ-साथ फ़िल्म में मिथुन चक्रवर्ती, अतुल श्रीवास्तव, प्रकाश बेलावड़ी, पुनीत इस्सर भी जबरदस्त रहे हैं।

सांझ संजोली पत्रिका से जुड़ने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।
यह भी पढ़ेंः