महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का कारण बन सकती है नींद की कमी, जानिए और कितने हैं नुकसान!

कहा जाता है कि एक स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क रहता है। लेकिन शरीर को स्वस्थ रखने के लिए सिर्फ संतुलित खानपान ही काफी नहीं होता। इसके अलावा शारीरिक गतिविधियों और भरपूर नींद का भी अहम् रोल होता है। आपको मालूम होना चाहिए कि एक स्वस्थ शरीर के लिए आठ घंटे की नींद लेना बहुत जरूरी होता है। लेकिन आजकल कंप्यूटर की इस दुनिया ने हमारी दिनचर्या को पूरी तरह तहस नहस कर दिया है। कम समय में ज्यादा से ज्यादा काम करने का प्रेशर इतना ज्यादा है कि इसके चलते लोग चाहकर भी सुकूनभरी नींद नहीं ले पाते। नींद पूरी नहीं होने के कारण कम उम्र में ही तमाम बीमारियों की चपेट में आने लगते हैं। आइए आपको बताते हैं कि नींद पूरी न होना कितनी परेशानियों की वजह बन सकता है।

महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर का खतरा
नींद पूरी न होना महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर की वजह बन सकता है। हो सकता है कि ये सुनकर आपको थोड़ी हैरानी हो रही हो, लेकिन ये बात हाल ही एक रिसर्च में सामने आयी है। रिसर्च के मुताबिक कम नींद लेने से महिलाओं की कोशिकाओं को काफी नुकसान होता है जो उनके लिए ब्रेस्ट कैंसर का रिस्क बढ़ाता है।

तनाव और डिप्रेशन
नींद की कमी के कारण मस्तिष्क को ठीक से आराम नहीं मिल पाता, इस वजह से लोगों में चिड़चिड़ापन आ जाता है। उनको तनाव होता है और तनाव के कारण वे किसी भी काम को बेहतर तरीके से नहीं कर पाते। काम में लापरवाही के चलते परिणाम भी संतोषजनक नहीं आते हैं। बार बार ऐसा होने में व्यक्ति डिप्रेशन की स्थिति में पहुंचने लगता है।

डायबिटीज, बीपी और हार्ट की समस्या
कम नींद हमारे शरीर के मेटाबॉलिज्म रेट को प्रभावित करती है। इसके कारण शरीर में अतिरिक्त चर्बी जमा होती है और वजन बढ़ता है। बड़ा हुआ वजन डायबिटीज, हाई बीपी और हार्ट की परेशानियों का कारण बनता है।

मूड स्विंग की समस्या
नींद पूरी न होने के कारण लोगों में खासकर महिलाओं में मूड स्विंग की परेशानी अक्सर सामने आती है। इसके कारण उन्हें कभी भी किसी भी मामूली सी बात पर गुस्सा आने लगता है। काम करने में मन नहीं लगता और न ही किसी से मिलना जुलना या ज्यादा बातें करना अच्छा लगता है।  

याददाश्त पर असर
भरपूर न लेने का व्यक्ति की याददाश्त पर भी बुरा असर पड़ता है। छोटी छोटी बातें भूलने की प्रवृत्ति उसमें विकसित होने लगती है। वहीं निर्णय लेने की क्षमता भी कमजोर होती है जिससे उसका आत्मविश्वास डगमगाने लगता है।

झुर्रियां और डार्क सर्कल
चेहरे को शरीर का आइना माना जाता है। यदि शरीर को कोई परेशानी हो तो वो सबसे पहले चेहरे पर ही नजर आती है। यही कारण है कि नींद पूरी न होने पर व्यक्ति का चेहरा काफी मुर्झाया सा नजर आता है। अगर ऐसा उसके साथ रोज होता है तो चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं और आंखों के नीचे डार्क सर्कल हो जाते हैं। इसके कारण लोग कम उम्र में ही कहीं ज्यादा के नजर आते हैं।

हार्मोनल असंतुलन हो जाता है
आजकल महिलाओं में थायरॉयड, पीसीओडी वगैरह हार्मोनल समस्याएं आम हो गई हैं। इन परेशानियों की एक वजह कम नींद लेना भी है। यदि एक बार किसी को हार्मोनल समस्या हो जाए तो शरीर का सारा सिस्टम बिगड़ जाता है। इसके कारण महिलाओं में चिड़चिड़ापन, पीरियड की अनियमितता, मोटापा, थकान जैसी तमाम परेशानियां देखने को मिलती हैं।

रोग प्रतिरोधक तंत्र होता कमजोर
हमारे शरीर को बीमारियों से बचाने के लिए रोग प्रतिरोधक तंत्र (Immune System) का मजबूत होना बहुत जरूरी है। यदि इम्यून सिस्टम कमजोर हो तो हमें इंन्फेक्शन, खांसी, जुकाम, बुखार आदि तमाम परेशानियां बहुत जल्दी घेर लेती हैं। नींद की कमी हमारे इम्यून सिस्टम को भी कमजोर करती है।

महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का कारण बन सकती है नींद की कमी, जानिए और कितने हैं नुकसान!
Hindi magazines in India / Online magazines India

यह भी पढ़ेंः

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *