पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन से पीड़ित हैं तो ध्यान में रखें इन बातों को

पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन (pelvic floor dysfunction) की समस्या होने पर आप पेशाब करने या मल त्याग करने के लिए अपने पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को सही ढंग से समन्वय करने में असमर्थ होते हैं। इस समस्या से जूझ रही महिलाओं को सेक्स के दौरान भी अधिक दर्द भी महसूस हो सकता है। वहीं पुरुषों को इरेक्शन होने पर दर्द महसूस हो सकता है। दरअसल पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां आपकी पेल्विक बोन के चारों ओर लपेटकर आपके कई अंगों को सहारा देती हैं। इसमें परेशानी की वजह से आपको कई तरह की परेशानियों को सामना करना पड़ सकता है।

अगर आपको पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन है, तो आपका शरीर मांसपेशियों को आराम देने के बजाय उन्हें कसता रहता है। इस तनाव की वजह से कई समस्याएं हो सकती हैं जैसे कि, मल त्याग करने में परेशानी, मल त्याग पूरी तरह से न होना या मूत्र का रिसाव लगातार होते रहना आदि।

पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन का क्या कारण है?

पैल्विक फ्लोर डिसफंक्शन का सटीक कारण अभी भी पता लगाया जाना है, लेकिन कुछ कारण हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए। जैसे किः

श्रोणि क्षेत्र में बड़ी चोट लगने से

कुछ महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान

पैल्विक मांसपेशियों का अत्यधिक उपयोग

किसी पुरानी पेल्विक सर्जरी

अधिक वजन

बढ़ती उम्र

इसके लक्षणों को पहचानें

कई लक्षण इस बात का संकेत हो सकते हैं कि आपको पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन है। अगर आपको इनमें से कोई लक्षण दिखाई दें तो बिना देर किए अपने डॉक्टर से सलाह करनी चाहिए।

बार-बार बाथरूम जाने की इच्छा हो। इसके साथ ही पेशाब कई बार रूक-रूक कर होती हो।

कब्ज, या आपके मल त्याग के दौरान दर्द महसूस होना। ऐसा माना जाता है कि लंबे समय तक कब्ज से पीड़ित लोगों में पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन भी हो सकता है।

मल या मूत्र का रिसाव होना।

मूत्र त्याग करने में दर्द।

पीठ के निचले हिस्से में बिना किसी कारण के दर्द महसूस होना।

इसके इलाज के दौरान इन बातों का ध्यान रखें

एक तरह से कह सकते हैं कि इसके इलाज का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हार नहीं मानना होता है। हर दिन अपनी दवाएं समय पर लें। दवाएं न लेने से आपके लक्षण संभवतः बदतर हो सकते हैं। इसके अलावा, व्यायाम भी करें ऐसा न करना उपचार को धीमा कर सकता है।

कोई भी गतिविधि जो आपके पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों में तनाव या दर्द को बढ़ाती है, आपके लक्षणों को और खराब कर सकती है। यदि आपको पेट में सूजन और गैस के दर्द के कारण कब्ज की समस्या है, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए और अपने आहार पर ध्यान देना चाहिए। रोजाना पर्याप्त मात्रा में पानी पीना और स्वस्थ आहार लेना महत्वपूर्ण है।