क्या आपको भी रात में आता है बहुत पसीना, रहें सावधान!

ऐसे में व्यक्ति को सोते समय आता है ज्यादा पसीना – जाने सब कुछ

कभी-कभी रात में सोते समय बहुत ज्यादा पसीना आता है, अकसर ऐसी स्थिति में घबरानें की जरूरत नहीं होती। लेकिन अगर आपको लगे कि आपको आम दिनों या सामान्य से ज्यादा पसीना आ रहा है तो सावधान हो जाएं, रात में सोते समय ज्यादा पसीना आना किसी बीमारी या किसी दवा का साइडइफेक्ट भी हो सकता है। जरूरी है कि आप अपने पसीने में होने वाली अचानक बढ़ोतरी को नोटिस करें और जल्द से जल्द इसके बारे में किसी विशेषज्ञ से राय लें।

मेनोपाॅज (रजोनिवृत्ति) से गुजरने वाली महिलाओं में रात में अधिक पसीने की समस्या हो सकती है। हालांकि, अधिकतर मामलों में कई महिलाएं संतुलित जीवनशैली को अपनाकर इस और इस कारण होने वाली कई समस्याओं से पीछा छुड़ा सकती हैं, उदाहरण के लिए संतुलित भोजन करना, नियमित रूप से व्यायाम करना और सही विटामिन और जरूरी सप्लीमेंट लेना।

आपकी सेक्स लाइफ में ज़हर घोल सकती है ये आदत

दवाएं जो रात के पसीने का कारण बन सकती हैं, आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं से भी रात को पसीना आ सकता है। कुछ परिस्थितियों में मधुमेह की कुछ दवाओं के इस्तेमाल से भी पसीना आ सकता है। ऐसी स्थिति में परेशान होने की जरूरत नहीं है, लेकिन अपने विशेषज्ञ से इस बारे जरूर बात करें।

बीमारी और विकार जिसके परिणामस्वरूप रात को पसीना आ सकता है, कुछ लोगों को बीमारियां या विकार हो सकते हैं जो दिन या रात के समय अत्यधिक पसीने का कारण बन सकते हैं। चिकित्सा या स्वास्थ्य स्थितियां जो रात में पसीने बढ़ा सकती हैं, जैसे कि अधिक चिंता, जुकाम और फ्लू जैसी वायरल बीमारियां रात में पसीना आने का कारण हो सकती हैं, लेकिन ऐसे अधिकतर मामलों में ये समस्या अपने आप सुलझ जाती है।

डाॅक्टर के पास जाना कब है जरूरी
रात में पसीने के अधिकांश कारण गंभीर नहीं होते हैं। लेकिन कई अन्य कारण भी होते हैं जिनका मूल्यांकन किया जाना जरूरी होता है। यदि ऐसे लक्षण एक सप्ताह से अधिक समय तक रहते हैं और वे किसी वायरल बीमारी या विकार से संबंधित नहीं हैं तो बिना देर किए चिकित्सक से मिलें। रात के पसीने के लिए चिकित्सा उपचार कारण के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। रात के पसीने के लगभग सभी कारण उपचार योग्य हैं। इसलिए यदि आपको लगातार रात को पसीना आता है, तो आपको बिना देर किए डाॅक्टर से जरूर मिलें।

 

यह भी पढ़ेंः