लाॅकडाउन में रहें फिट स्पोर्ट्स न्यूट्रिनिस्ट ने बताए कारगर उपाय

एक स्पोर्ट्स न्यूट्रिनिस्ट और योग चिकित्सक के रूप में मेरा मानना है कि हमें योग के साथ-साथ जीवन के जश्न को उल्लास के साथ मनाना चाहिए। अपने शरीर का फिट रखें, इन योग आसनों की मदद से लाॅकडाउन के दौरान घर पर ही अपने और अपने परिवार को तंदरूस्त रखें – परमिता सिंह

कोरोनावायरस जैसी गंभीर समस्या ने पूरे विश्व को घेर रखा है। इस समस्या से लड़ने के लिए विश्व के कई देश लॉक डाउन को हथियार बना रहे हैं। भारत में भी लॉक डाउन को बढ़ा दिया गया है। घर पर रहकर और कुछ सावधानियां बरतकर हम अपनी और अपनों की सुरक्षा कर सकते हैं। कोरोना वायरस से बचने के लिए जिन बातों का ध्यान रखना चाहिए उसे अधिकतर लोग परिचित हैं, लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि इस लॉकडाउन में किस तरह आप अपने शरीर को स्वस्थ बनाए रख सकते हैं? आज हम आपको इसी प्रश्न का उत्तर देने की कोशिश कर रहे हैं।

चूंकि कोरोनॉयरस के कारण देशव्यापी लॉकडाउन को बढ़ाया गया है, इसलिए लोग अपने स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हो रहे हैं। इस लाॅकडाउन ने हमारी शारीरिक गतिविधियों को कम कर दिया है, इसलिए अपने घर से बाहर निकले बिना फिट बने रहना जरूरी है। स्वच्छता रखने के साथ-साथ सभी को अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के लिए भी प्रयत्न करना चाहिए। योग एक सबसे उत्तम स्वास्थ्य विकल्प है जिसे हर कोई आसानी से कर सकता है। यह पूरी दुनिया में सभी के द्वारा अनुकूलित और सीखा जा सकता है। लाॅकडाउन में योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाने के लिए एक उपयुक्त समय है।

कोरोना वायरसः गर्भवती महिलाएं अपनाएं बचाव के ये उपाय!

योग आपकी इंद्रियों को भी प्रकाशित करता है। योग कॉर्टिकल थिकनेस बढ़ाकर अल्फा ब्रेन वेव्स को बढ़ावा देता है, जिससे सीखने और याद रखने की क्षमता बढ़ती है। परावर्तन और ध्यान की तकनीक मन की भावना को प्रभावित करती है, श्वास को भी नियंत्रित करती है और शांति व कल्याण की भावना को बनाए रखती है। आधुनिकीकरण के साथ, कई लोगों के स्वास्थ्य की आदतों में एक अलग बदलाव आया है। चाहे आप किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सोचें, जो फ्रीलांसिंग में है, या वर्तमान लाॅकडाउन की स्थिति के कारण घर से काम कर रहा है। योग ऊर्जा को बढ़ाता है, रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और आपको ऊर्जावान बनाए रखता है। अध्ययनों से पता चलता है कि एक घंटे तक ध्यान के बाद चिंता को कम करने में मदद मिलती है, नींद के पैटर्न में सुधार होता है और बदले में जीवन की गुणवत्ता में सुधार करता है, योग आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करता है, जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को बढ़ाता है और नकारात्मक विचारों को दूर करता है।

पुरवोत्तानासन – यह विशेष आसन या उर्ध्व प्लैंक मुद्रा के रूप में जाना जाता है जो आपको तनाव और शरीर की अकड़न से निजात दिलाता है। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि आपको एक मजबूत बनाने में भी मदद करता है। यह योग आपको आशावाद के साथ उर्जा भी देता है और स्वाभाविक रूप से आपकी श्वास प्रक्रिया को आसान बनाता है। यह आसन शुरुआती लोगों के लिए भी कुछ जटिल नहीं है!

उर्ध्वा मुख शवासन – लोकप्रिय रूप से उर्ध्वगामी मुद्रा के रूप में जाना जाता है, यह आसन थकान और हल्के अवसाद को दूर करने में मदद करता है, बाहों, रीढ़ और कलाई को मजबूत करता है, और रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है।

कोरोना वायरसः योग को बनाएं अपना साथी!

पश्चिमोत्तानासन – यह विशेष आसन पाचन में मदद करने के लिए जाना जाता है, कंधों को टोन करता है और पीठ के निचले हिस्से, हैमस्ट्रिंग, और कूल्हों, मस्तिष्क की गतिविधि को शांत करता है। इस आसन से किसी भी प्रकार के तनाव या चिंता से राहत मिलती है और पेट और श्रोणि अंगों के लिए भी लाभकर होता है।

उत्तानासन – यह आसन खड़े हुए आगे की मुद्रा के रूप में जाना जाता है, यह आसन आपके हैमस्ट्रिंग को बहुत जरूरी खिंचाव देता है और आपके दिमाग को शांत भी करता है। जबकि यह मुद्रा विशेष रूप से आपके मस्तिष्क को शांत करने में मदद करती है और आपको सभी तनाव से मुक्त करने में मदद करती है। साथ ही यह सिरदर्द और अनिद्रा से निपटने में भी मदद करती है, थकान को कम करती है और पाचन में सुधार करती है।

– इस आर्टिकल का उद्देश्य जानकारी देना मात्र है, किसी भी आसन या उपाय को अपनाने से पहले विशेषज्ञ से सलाह अवश्य करें।

लाॅकडाउन में अच्छे मूड के लिए जरूरी हैं ये 3 बातें!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *