इस तरह करें छातों की सही देखभाल, चलेंगे सालों-साल!

छातों की सही देखभाल बारिशों में आपके लिए बेहद जरूरी साबित हो सकती है। साथ ही बहुत तेज धूप में भी छातों की जरूरत से इंकार नहीं किया जा सकता। कुछ बाते हैं जिनका ख्याल रख कर आप अपने छाते की उम्र को सालों तक बढ़ा सकते हैं चलिए छातों की सही देखभाल के लिए कुछ टिप्स पर नजर डालते हैं।

गीला छाता

ध्यान रखें कि छाता गीला होने पर उसे मोड़ें नहीं। छातों की सही देखभाल के लिए जरूरी है कि पहले छाते को अंदर और बाहर से सुखा लें। बारिश से आने के बाद अपने छाते को हवादार जगह पर उल्टा लटका दें। छाते के सूखने के बाद उसे उसकी सही जगह पर रख दें।

कैसे खोले अपना छाता

छाता खोलने से पहले उसके सभी पैनलों को हिलाएं और धातु की डंडियों को सीधा करें। डंडियों की सुरक्षा के लिए छाता को हमेशा धीरे-धीरे खोलें। कोशिश करें कि तेज हवा के समय किसी ओट में आकर छाते को खोलें। ऐसा न करने पर छाते की डंडियों को नुकसान हो सकता है। आपका छाता खराब हो सकता है।

कहां रखें अपना छाता

छाते को किसी धूल भरी दीवार पर न लटकाएं। दीवार जिसका पेंट उतर रहा हो, उस जगह भी अपने छाते को न लटकायें। छातों की सही देखभाल के लिए छाते को हमेशा सूखी जगह पर लटकायें। उसे धूल और गंदे होने से बचाने के लिए थैली में रखना बेहतर विकल्प हो सकता है।

बारिश में करें प्रयोग

आपके प्यारे छाते का इस्तेमाल बारिशों के लिए होता है। बारिश बंद होने पर कुछ लोग इसे छड़ी की तरह इस्तेमाल करने लगते हैं। ऐसा करना छाते को नुकसान पहुंचाता है। छड़ी की तरह छतरी का उपयोग न करें।

चिंगारी कर सकती है छाता बेकार

नायलॉन छतरियों को सिगरेट की राख या किसी भी छोटी से छोटी चिंगारी से बचा कर रखें। और जहां तक प्लास्टिक की छतरियों की बात है, तो उन्हें तेज धूप में न रखें ऐसा करने से छाते के पैनल खराब हो सकते हैं।

छातों के लिए कुछ जरूरी सुझाव

कपड़े और रेशम के छातों की सही देखभाल के लिए, उन्हें हमेशा नरम ब्रश से साफ करें। इसके लिए आप वाशिंग पाउडर का इस्तेमाल कर सकते हैं। छतरियों को साफ पानी से धोएं, और फिर उन्हें हवा में सुखाएं।

यदि पैनलों पर कोई दाग है, तो उन्हें सिरके और पानी के घोल से साफ करें।

रेशम की छतरियों को साफ करते समय मोड़ें नहीं, वरना पैनल टूट जाएंगे।

गहरे रंग की कपड़े की छतरियों को नरम ब्रश से पोंछे, इसे साफ करने के लिए आप चाय के पानी का सहारा भी ले सकते हैं। रंगीन छपाई वाली छतरियों को अमोनिया के पानी से पोंछें, ये दागों को साफ कर सकता है और छतरियों के रंगों को भी संरक्षित कर सकता है।

गैसोलीन और मिट्टी के तेल जैसे कार्बनिक सॉल्वैंट्स का उपयोग न करें, जिसके परिणामस्वरूप रंग फीका पड़ सकता है।