पिता बनने की क्षमता घटा रहा है कोरोना वायरस! Covid-19 affects fertility

कोरोना वायरस से पीड़ित पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में दर्ज की गई कमीः फर्टिलिटी एंड स्टेरिलिटी जर्नल में प्रकाशित स्टडी के अनुसार

पिछले कई महीनों से पूरी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही है। इस वायरस का प्रकोप हर दिन तेजी से बढ़ रहा है पूरी दुनिया इसकी चपेट में है। सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और सेनिटाइजर रोजमर्रा की आवश्यकता बन गए हैं। कुछ शोधों में ये बात सामने आई है कि इस वायरस की वजह से फेफड़ों में संक्रमण के साथ-साथ अत्यधिक कमजोरी व कई अन्य परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वायरस की वजह से जन्मे तनाव आदि के कारण महिलाओं के पीरियड्स भी अनियमित हो रहे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इजराइल के वैज्ञानिकों द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन में कहा है कि कोविड-19 की वजह से स्पर्म बनाने वाली कोशिकाओं को भी नुकसान पहुंचता है जिसकी वजह से मेल इंफर्टिलिटी की संभावना बढ़ जाती है। इस वायरस की चपेट में आने की वजह से कोशिकाएं जो शुक्राणुओं का निर्माण करती हैं उनका बनाना मुश्किल हो जाता है।

यह अध्ययन फर्टिलिटी एंड स्टेरिलिटी जर्नल में प्रकाशित हुआ है। शोध के अनुसार वैज्ञानिकों ने यह भी दावा किया कि संक्रमित अध्ययनरत पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में लगभग 50 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई। अध्ययन के अनुसार अभी इस बात का पता लगाया जाना बाकी है कि यह समस्या कितनी गंभीर है और इसका दूरगामी प्रभाव क्या होगा। इस खबर को समझने के लिए सांझ संजोली की टीम ने विशेषज्ञों से बात की आइए जानते हैं उनकी रायः

मदर्स लैप आईवीएफ सेंटर की मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर शोभा गुप्ता ने बताया कि “मुझे आश्चर्य नहीं होगा अगर यह वायरस शुक्राणु उत्पादन में अस्थायी कमी का कारण बनता है। हालांकि अभी इस बारे में शोध प्रारंभिक स्तर पर ही हैं, लेकिन सवाल यह है कि यह कब तक चलेगा और क्या यह ठीक हो सकता है। कई शोधों में हर बार इस वायरस के साथ एक बात सुनने को आती है। अगर किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है तो उसका वायरस की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। अगर इसकी चपेट में आने वाले व्यक्ति के शुक्राणुओं की संख्या में कमी हो रही है तो निश्चित ही उसे पिता बनने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है।”

जेपी अस्पताल से सीनियर आईवीएफ कंसल्टेंट डाॅक्टर श्वेता गोस्वामी ने बताया कि “कोरोना वायरस या किसी भी अन्य वायरस से होने वाले तेज बुखार कि वजह से आपके शुक्राणुओं को नुकसान पहुंचता है, अधिकतर मामलों में कुछ समय के लिए। साथ ही कोरोना वायरस की वजह से ऐसा हो रहा है ऐसा कहना मेरे ख्याल से अभी जल्दबाजी ही होगी। ऐसे में सबसे अच्छा यही रहेगा कि लोग मास्क जरूर पहनें, जिससे वे इस वायरस की चपेट में आने से बच सकेंगे।”

शांता फर्टिलिटी सेंटर की आईवीएफ विशेषज्ञ डाॅक्टर अनुभा सिंह ने बताया कि “ये संभव हो सकता है कि जो पुरूष इस वायरस की चपेट में आए हैं वे इनफर्टिलिटी की समस्या का सामना करें। इस पर कुछ पक्की तरह से कहने से पहले रिसर्च का पूरी तरह से अध्ययन करा जाता जरूरी है। फिरभी मैं सभी से यही कहना चाहती हूं कि फेस मास्क और सोशल डिस्डेंसिंग का पूरी तरह से पालन करें। मास्क पहनने से इस वायरस की चपेट में आने का खतरा कम हो जाता है जिससे आप वायरस की वजह से होने वाली समस्याओं से खुद का बचा सकते हैं।”

इन बातों का रखें खास ख्याल

  • मास्क पहनें और उचित सैनेटाइजिंग करें
  • अधिक वजन बढ़ने से पहले व्यायाम शुरू करें
  • धूम्रपान और शराब का सेवन न करें
  • टाइट अंडरवियर पहननें से बचें
  • मोबाइल फोन और लैपटॉप से पैदा होने वाले विकिरण से बचें
  • पौष्टिक आहार लें और नियमित व्यायाम करें इससे आपकी रोग प्रतिरोधक शक्ति में भी बढ़ोतरी होगी

यह भी पढ़ेंः

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *