दिल के दौरे का खतरा बढ़ा देती हैं ये बीमारियां – risk of heart attack

कभी-कभी दिल का दौरा पड़ने वाले लोग किसी भी पूर्व लक्षण का अनुभव नहीं करते हैं, ऐसी स्थिति को साइलेंट इस्किमिया कहा जाता है, जिसे आम भाषा में साइलेंट हार्ट अटैक भी कहते हैं। अधिकतर मामलों में दिल के दौरे के कुछ पूर्व लक्षण होते हैं, जिनके सामने आते ही आपको अपने चिकित्सक से तुरंत पूरी जांच करवानी चाहिए, जैसेः

सीने में बेचैनी या दर्द जो दबाव या जकड़न जैसा महसूस हो सकता है
एक या दोनों बाहों में दर्द या असुविधा महसूस हो सकती है
पीठ, गर्दन, जबड़े या पेट में दर्द
सांस की तकलीफ, के साथ-साथ छाती में जकड़न महसूस हो सकती है
जी मिचलाना
धड़कन अनियमित होना
चक्कर आना
बहुत अधिक पसीना आना

दिल की बीमारी से बचने के लिए क्या खाएं
दिल की बीमारी और दिल के दौरे से बचने के लिए आपको अपने फूड पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। आप रोजाना क्या खाते हैं, इस बात पर आपकी सेहत पूरी तरह से निर्भर करती है, हार्ट अटैक के खतरे को कम करने के लिए अपने आहार में फल और सब्जी, साबुत अनाज, फलियां, कम वसा वाली डेयरी आइटम, कम आॅयल में बना चिकन, मछली आदि को शामिल कर सकते हैं। इसके साथ ही आपको चीनी, लाल मांस आदि से परहेज करना चाहिए।

हृदय रोग और दिल के दौरे से बचने के लिए क्या करें
हृदय रोग और दिल के दौरे से बचने के लिए विशेषज्ञ आपको अपनी जीवन शैली में सकारात्मक बदलाव की सलाह देते है। हार्ट अटैक के जोखिम वाले कारकों को कम करने के लिए इन सुझावों का पालन करना चाहिए।

सेहतमंद आहार लें।
स्वस्थ वजन बनाए रखें।
धूम्रपान न करें।
शराब का सेवन सीमित या बिल्कुल न करें।
मधुमेह और रक्तचाप को नियंत्रित रखें।
नियमित रूप से व्यायाम करें।
तनाव से बचें
समय पर अपनी दवाओं का सेवन करें।

बीमारियां/कारण जिनके बाद बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा
निम्नलिखित बीमारियों से ग्रस्त होने पर आपको दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है, इसीलिए इन बीमारियों से गस्त होनें पर चिकित्सक आपको नियमित अंतराल पर स्वास्थ्य जांच करवाते रहने की सलाह देते हैं। आइए जानते हैं वो बीमारियांः

मधुमेह
उच्च रक्तचाप
उच्च कोलेस्ट्रॉल
मोटापा
अधिक धूम्रपान की वजह से होने वाली बीमारियां
उम्र बढ़ने के साथ बढ़ जाता है खतरा
दिल की बीमारी का पारिवारिक इतिहास
शराब का अधिक सेवन

यह भी पढ़ेंः