कड़कड़ती ठंड में ये तरीके बढ़ायेंगे आपकी शारीरिक क्षमता!

लहसुन एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है जिसमें एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और एंटी-फंगल गुण होते हैं, जो इसे इम्यूनिटी बूस्टर व सर्दियों के कीड़ों के खिलाफ रक्षक बनाता है। लहसुन की शक्ति को अधिकतम करने के लिए प्रयोग करने से पहले लहसुन को कुचल दें और फिर खाना पकाते समय इसका प्रयोग कर सकते हैं।

ताजा अदरक में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट व रोगाणुरोधी गुण होते हैं। जब आपको ठंड महसूस होती है, अदरक की चाय शानदार पेय होता है। यह आपको अंदर तक गर्माहट देती है। कुछ शोधों के अनुसार इसे पीने से पसीने में भी बढ़ोतरी होती है, जो बुखार को कम करने, शरीर को ठंडा करने और सिस्टम से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में तेजी लाने में मदद कर सकता है। ताजी अदरक की चाय बनाने के लिए, अदरक को एक अंगूठे के आकार के टुकड़े को छीलें, और गर्म पानी में पांच मिनट के लिए उबालें फिर चाय की बाकी तत्वों को मिलाएं।

धूप सर्दियों में जोश बढ़ाने का काम करती है। हमारी त्वचा के नीचे स्वाभाविक रूप से सूरज की किरणों की प्रतिक्रिया में विटामिन डी का उत्पादन होता है। विटामिन डी हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक से काम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, भोजन के माध्यम से पर्याप्त विटामिन डी प्राप्त करना कठिन है, इसलिए विटामिन डी के विकल्प पर विचार किया जा सकता है और सूरज की रोशनी एक बेहतर विकल्प होता है।

प्रतिदिन व्यायाम वास्तव में सबसे अच्छा प्रतिरक्षा बूस्टर में से एक होता है। नियमित रूप से व्यायाम बहुत महत्वपूर्ण है और इसे बैक्टीरिया से लड़ने वाले प्रतिरक्षा कोशिकाओं में अस्थायी वृद्धि से जोड़ा गया है, और लंबे समय तक इससे प्रतिरक्षा प्रणाली में लाभ मिलता है। व्यायाम हमेशा किसी अच्छे विशेषज्ञ की निगरानी या सलाह से ही करना लाभकारी होता है।

अगर आप ठंड की वजह से निम्न लक्षण देखें तो बिना देर किए डाॅक्टर से जांच करवाएंः

त्वचा का मोटा होना या कसना
पूरी तरह से घावों या उंगलियों पर घाव या दरारें
थकान
वजन में अचानक बदलाव
बुखार
लगातार बना रहने वाला जोड़ों का दर्द
चकत्ते

यह भी पढ़ेंः