बांझपन की समस्या से लड़ना है तो अपनाएं ये उपाय

आज हम जिस जीवन शैली को जी रहे हैं वह सबसे बड़ा कारण है जो हजारों और लाखों जोड़ों में बांझपन देता है। कभी-कभी जब मैं उनकी कहानियां सुनती हूं तो मेरा दिल टूट गया, लेकिन बांझपन विशेषज्ञ होने के नाते, यह वास्तव में मेरा कर्तव्य है कि मैं दुनिया भर के सभी जोड़ों को स्वस्थ रहने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ सलाह दूं और उन्हें अपनी प्रजनन क्षमता का पालन करने के लिए सबसे अच्छा सुझाव दूं। यहां कुछ खास टिप्स दिए गए हैं, जिन्हें ध्यान में रखना बहुत आवश्यक हैः

1. सबसे पहले आपकी उम्र बहुत मायने रखती है-
एक महिला के लिए सबसे अच्छा प्रजनन वर्ष उसके 20वें से 24वें वर्ष तक होता है। जब एक महिला अपने तीसवें दशक तक पहुंचती है, तो उसकी प्रजनन क्षमता धीरे-धीरे कम होंने लगती है, विशेष रूप से 35 वर्ष की आयु के बाद।

2. जीवन शैली
आप कैसे रहते हैं, इस पर विचार करना बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आप शराब, धूम्रपान, ड्रग्स या दर्द निवारक जैसी दवाएं लगातार लेते हैं, तो यह निश्चित रूप से आपके गर्भवती होने की संभावनाओं को बाधित करेगा और फिर आपको एक प्रजनन विशेषज्ञ की तलाश करने की आवश्यकता महसूस होगी इसलिए ऐसे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले कारकों से दूर रहें।

3. आहार एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है
अपने आहार में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व लें। फर्टिलिटी पूरे शरीर के स्वास्थ्य पर निर्भर करती है। आपको संतुलित रक्त शर्करा, शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्व व आहार के माध्यम से जरूरी मिनरल्स की आवश्यकता होती है। आप आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, खट्टे फल, नट्स शामिल करें, साथ ही अपने आहार में दूध जरूर लें। हमेशा हाइड्रेटेड रहें, भले ही आपको प्यास न लग रही हो। यह न केवल गर्भवती होने के बारे में है, बल्कि अंडे और शुक्राणु के स्वास्थ्य के बारे में भी है।

– सोया को अपने आहार में शामिल करें, सोया में फाइटोएस्ट्रोजेन होता है। सोया का सबसे अच्छा स्रोत टोफू, सोया पाउडर सोयामिल्क और सोया नट्स जैसे खाद्य पदार्थ हैं।

– व्यायाम- एक सक्रिय जीवन शैली आपके समयपूर्व रजोनिवृत्ति के जोखिम को कम कर सकती है। एक सप्ताह में 3 बार एरोबिक व्यायाम के 30 मिनट फायदेमंद हो सकते हैं।

– एक अच्छा मल्टीविटामिन- सुनिश्चित करें कि आपके शरीर को विटामिन डी, विटामिन ई, जस्ता और मैग्नीशियम की पर्याप्त आपूर्ति प्राप्त होती हो।

– ऐसे खाद्य पदार्थ खाएं जो कैल्शियम से भरपूर हों जैसे कि पनीर, बादाम, हरी पत्तेदार सब्जियाँ, दूध, गरिष्ठ अनाज जैसे मकई के फ्लेक्स, किशमिश चोकर आदि।

– पर्याप्त नींद लें

– तनाव को कम करने का अभ्यास करें

– शराब का सेवन न करें

यह भी पढ़ेंः