खूबसूरत त्वचा के लिए भी फायदेमंद है पानी

वैसे तो हम पानी तभी पीते हैं जब हमें जोर कि प्यास लगी हो, पर क्या आप जानते हैं कि पानी हमारे शरीर और त्वचा के लिए कितना फायदेमंद है। शोधकर्ताओं का कहना है कि दमकती त्वचा पानी हो या मोटापे पर काबू पाना हो तो, सबसे जरूरी है कि आप भरपूर मात्रा में पानी पिएं। एक व्यक्ति को दिन भर में 8-10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए।

सेहतमंद रहना चाहते है तो हर दिन पानी की खुराक को जरूर पूरा करना चाहिये। महिलाओं को सर्दी हो या गर्मी हर मौसम में अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए। विशेषज्ञों के मुताबिक महिलाओं में यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की समस्या होती है। इसी वजह से उनके शरीर को पानी की अधिक जरूरत होती है। हम जो भी खाना खाते हैं उसे पचाने के लिए पर्याप्त पानी की जरूरत होती है। इसके अलाव शरीर के मेटाबॉलिज्म, पाचन शक्ति और एबजॉरप्शन के लिए पानी की बहुत जरूरी है होती है। इसलिए प्यास ना लगने पर भी पानी पीना चाहिए। आइये कुछ तरीके शामिल करते है। बाहर जाने पर अक्सर पानी की आवश्यकता होने पर आपको पानी नहीं मिल पाता। और आप हमेशा रुककर इसे खरीदने में सक्षम भी नहीं होते। जिससे आप पानी की मात्रा कम लेते हैं। इसलिए जब भी आप घर से बाहर जाये तो हर बार पानी की एक बोतल को अपने साथ जरूर लेकर जाये। बोतल के साथ में होने से पानी पीने की अधिक संभावना रहती है।

डाॅक्टर करूणा मल्होत्रा ने सांझ संजोली मैगजीन से बात करते हुए बताया कि अभी के मौसम में कई तरह की हरी सब्जियां मिलती हैं, जिनसे शरीर को पानी मिलता है। आप चाहें तो खाने से पहले सूप लें और जूस भी ले सकते हैं। इससे भी पानी की कमी पूरी होती है। रात को सोते समय पानी को अपने पास रखें ताकि रात को नींद खुलने पर आप इसे आसानी से पी सकें। रात को पानी लेने जाने के चक्कर में कई बार आप प्यास लगने पर भी पानी पीने नहीं जाते। और सुबह पानी पीने की स्वस्थ आदत को भी नहीं अपना पाते। इसके कारण आप सात या आठ घंटे बिना पानी के रहने के कारण अपने शरीर को भी डिहाइड्रेट कर देते हैं।

डाॅक्टर करूणा के अनुसार पानी में स्वाद को जोड़ने के लिए अपने पानी में कोई जड़ी बूटी या फल के टुकड़े मिलाये, ताकी आप वास्तव में इसे पीने के लिए तत्पर रहें। वैसे तो नींबू, संतरा और मिंट सबसे आम फ्लेवर है, लेकिन आप अपने पसंदीदा या कुछ नया लेने का भी प्रयास कर सकते हैं। कृत्रिम फ्लेवर की बजाय प्राकृतिक फ्लेवर को अपनाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

अगर आपको अन्य पेय जैसे जूस, चाय, सॉफ्ट ड्रिंक या कॉफी पीने की आदत हैं, तो इसे पानी के साथ बदलने का प्रयास करें। लेकिन ध्यान रहें कि सॉफ्ट ड्रिंक और पैक फलों के जूस में चीनी बहुत ज्यादा और पोषण तत्व बिल्कुल भी नहीं होते, और सिर्फ कैलोरी की आपको जरूरत नहीं हैं।

पानी पीने के हैं कई फायदे –

पाचन और कब्ज- सोकर उठने के बाद एक-दो गिलास पानी पीना पेट साफ करने के लिहाज से फायदेमंद होता है। ऐसा करने से आपको कब्जियत की परेशानी से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा। तांबे के लोटे में पानी पीना भी पेट के लिए काफी फायदेमंद है।

मोटापे से मुक्ती- पानी में कैलोरी की मात्रा शून्य होती है। पानी भूंख को कम करता है जिससे आपको ज्यादा भोजन करने की जरुरत नहीं पडती। ठंडा पानी पीना ज्यादा बेहतर होगा क्योंकि यह जल्दी अवशोषित होता है।

त्वचा होगी खूबसूरत- आप अपने आप ही जवां दिखेगें अगर आप की त्वचा पूरी तरह से हाइड्रेटेड होगी तो। यह त्वचा की टिशू की भरपाई कर के उसमें लचीलापन लाता है और त्वाचा को नम रखने में मदद करता है, जिससे त्वचा में चमक आती है।

काम में ज्यादा मन लगना- अक्सर जो लोग ऑफिस में काम करते हैं वह अपने काम के चक्कर में पानी पीना भूल जाते हैं। पर आपको बता दें कि हमारे दिमाग को लगभग 90: पानी की आवश्क्ता होती है। पानी पीने से आप अधिक सतर्क और अधिक केंद्रित हो कर काम कर सकेगें।

मोंच और ऐठन से राहत- यह शरीर की मासपेशियों में लचीलापन लाता है जिससे दौडते-भागते वक्त शरीर में मोंच नहीं आती।

दिल और गुर्दे के लिए फायदेमंद- पानी शरीर में फ्लू और अन्य बीमारियों के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मदद करता है। यह गुर्दे की पथरी और दिल का दौरा पड़ने से भी रोकता है। नींबू को पानी में मिला कर पीने से सांस संबधी, पेट की समस्या और गठिया रोगों से निजात मिलती है। कुल मिला कर यह हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को ठीक करता है।

थाकान से राहत- यह हमारे शरीर से खराब तत्व और विष रहित पदार्थो को पसीने के दा्रा निकालता है। अगर आपके शरीर में पानी की कमी है तो जाहिर सी बात है कि आपके दिल को शरीर की हर कोशिका में साफ खून पहुचाने में ज्यादा काम करना पडेगा। इसलिए हो सके तो अपने शरीर में पानी की अच्छे से पूर्ती करें वरना शरीर की हर कोशिकाओं में पानी की कमी हो जाएगी।

खाना खाने के दौरान पानी न पिएं- आयुर्वेद के मुताबिक शरीर से स्रावित होने वाले पाचक रस ही भोजन पचाने में सहायक होते हैं। भोजन के दौरान पिया गया पानी इन पाचक रसों को पतला बना देता है जिससे पाचन ठीक से नहीं हो पाता। बेहतर होगा कि भोजन के आधे घंटे पहले व बाद में पानी पिएं।

ताकि आप न भूलें पानी पीना –

अपने पानी की जरूरत के अनुसार टाइमर लगायें या फिर नोट लिखकर अपने आप को याद दिलायें। अगर आप स्टिकी नोट्स का प्रयोग कर रहें हैं तो उन्हे उस जगह चिपकायें जहाँ आप ज्यादातर समय रहते हैं। इस प्रक्रिया द्वारा आप दिनभर में पर्याप्त पानी पियेंगे।

फल और सब्जियाँ आपको आवश्यक पोषक पदार्थ के साथ-साथ काफी मात्रा में पानी उपलब्ध कराते हैं। तरबूज, खीरा और टमाटर जैसे भोज्य पदार्थ वास्तव में दिन भर की आवश्यकता का 20 प्रतिशत तक पानी उपलब्ध कराते हैं।

अगर आप दिन भर घर से बाहर रहना चाहते हैं या फिर पूरा दिन मेज पर बैठना हो तो पानी की बोतल अपने पास रखें। जब भी प्यास लगे एक आलसी व्यक्ति के लिये बोतल उठाकर पानी पीना काफी आसान हो जाता है।

अगर आपका कार्य आपको दिन भर मेज पर रखे कम्प्यूटर को निहारने के लिये मजबूर करे तो हो सकता है आप पानी पीना भूल जायें। तो इस बात का ध्या रखें कि आप काम को रोक कर अपने यार दोस्तों के साथ पानी पीकर थोड़ा सा विश्राम कर लें।

पानी की पर्याप्त मात्रा को सुनिश्चित करने के लिये एक सारिणी बना लें। उदाहरण के लिय आप सुबह उठते ही दो गिलास, खाना खाने के बाद एक गिलास, एक गिलास मूत्रालय से वापस आकर और एक गिलास सोने से पहले पानी पी सकते हैं। इस प्रक्रिया से यह सुनिश्चित हो जायेगा कि आपको दिन भर में पर्याप्त पानी मिल जायेगा।

अगर आपको सादा पानी नहीं अच्छा लगता तो आप उसमें नींबू निचोड़ कर उसे मजेदार बना सकते हैं। नींबू पानी न केवल आपको तरोताजा करता है बल्कि गुर्दे को थकावट से बचाता है। नींबू में रेशे और पेक्टिन होता है जो भूख के कारण होने वाले दर्द को रोकता है।

यह भी पढ़ें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *