क्या बारिश में बढ़ जाएगा कोरोना वायरस का प्रकोप? जरूरी है ये जानकारी

उत्तर भारत में मानसून दस्तक दे रहा है, झमाझम बारिश हर किसी को अच्छी लगती है। लेकिन कोरोना वायरस coronavirus की समस्या को देखते हुए सभी के मन में एक ही सवाल आ रहा है कि क्या बारिश monsune seesion के दिनो में कोरोना वायरस की समस्या और अधिक विकराल रूप लेने वाली है? नमी के दिनों में वातावरण में कई तरह के वायरस virus stats का प्रकोप होता है, ऐसे में जब कोरोना वायरस corona virus in India ने पहले से पूरे विश्व को परेशान किया हुआ है बारिश की आहट लोगों के दिलों  में शक पैदा कर रही है। इसी शक को दूर करने के लिए हमने विशेषज्ञों से बात की आइए जानते हैं उनकी रायः

मदर्स लैप आईवीएफ सेंटर की मेडिकल डायरेक्टर डाॅक्टर शोभा गुप्ता ने सांझ संजोली पत्रिका से बात की उन्होंने कहा कि नमी से भरे वातारण में कई तरह के वायरस एक्टिव होते हैं ये बात सच है, लेकिन कोरोना वायरस को लेकर अभी सभी शोध प्रारंभिक चरण में हैं इसलिए इसपर कोई दावे से टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी। लेकिन यह बात तो सच है कि वातावरण में नमी के कारण कई तरह के वायरस लंबे समय तक जीवित रहते हैं। लोगों को यही सलाह दी जा सकती है कि वे कोरोना वायरस से रोकथाम के लिए सरकार द्वारा जारी सुरक्षा उपायों को जिम्मेदारी से अपनाएं। ऐसा करके वे अपनी और अपनों के जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं।

त्वचा भी दमकती है योग से (international yoga day)

बारिश के दिनों में कोरोना वायरस के साथ-साथ कई अन्य वायरल बीमारियों से किस प्रकार बचें इसके सुझाव के लिए सांझ संजोली पत्रिका ने होम्योपैथ फिजीशियन डाॅक्टर करूणा मल्होत्रा से बात की आइए जानते है उनके द्वारा सुझाए उपायों कोः

  • कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार द्वारा जारी सुरक्षा उपायों को हमेशा ध्यान रखें, सोशल डिस्टेंसिंग को उपनाएं, मास्क पहन कर ही घर से बाहर निकलें और अपने हाथों को समय-समय पर जरूर धोते या सेनेटाइज़ करते रहें।
  • अपने आहार में सेब, नाशपाती, अनार, और लीची जैसे अन्य फलों को जरूर शामिल करें। इससे आप फिट रहेंगे। यह आपके आंतरिक सिस्टम को साफ रखेगा और आपको स्वस्थ रहने में मदद करेगा।
  • कोरोना वायरस या किसी अन्य वायरल बीमारी का शिकार होने से बचने के लिए अपने हाथों को निश्चित अंतराल में धोते रहें। ऊर्जावान और स्वस्थ जीवन शैली को अपनाएं। यदि आप लंबे समय तक गीले रहते हैं, तो आपके किसी बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए सावधानी बरतते हुए भीगने से बचें, यदि भीग गए हों तो जल्द से जल्द शरीर को सुखाने का प्रयत्न करें।
  • संतुलित आहार के साथ-साथ पर्याप्त मात्रा में पानी जरूर पिएं। आप नींबू की चाय, हर्बल चाय या नींबू-अदरक, काली मिर्च मिलाकर तैयार की गई चाय का सेवन कर सकते हैं। यह आपके दिमाग को शांत करेगा और आपके शरीर को गर्म और ताजा रखेगा।
  • स्ट्रीट फूड से बचें। मसालेदार, तैलीय, तीखा भोजन और कच्ची सब्जियां आपके शरीर में कई संक्रमण पैदा कर सकती हैं जो आपके पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा सकती हैं। इसलिए इन दिनों घर पर बने भोजन का आनंद लेना उचित है।
  • घर आने के बाद या अपने इच्छित स्थान पर पहुंचने के बाद अगर संभव हो तो जरूर अपने पैरों को धो लें। गंदा और स्थिर बारिश का पानी आपके जूते और मोजे में लग जाता है, जो आपके पैरों को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • सुबह के वर्कआउट को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए क्योंकि बारिश के दिनों में कई बार हमारी मॉर्निंग वॉक मिस हो जाती है। नियमित व्यायाम से आपको अपनी सक्रियता पर नियंत्रण रखने में मदद मिलेगी। आलस्य को अपनी दिनचर्या में न आने दें। आप योग को भी अपनी दिनचर्या का अटूट हिस्सा बना सकते हैं।