World Sight Day: समय पर इलाज तो नहीं करना पड़ेगा 75 प्रतिशत लोगों को दृष्टिहीनता का सामना!

विश्व दृष्टि दिवस कब मनाया जाता है, विश्व दृष्टि दिवस 2020, विश्व दृष्टि दान दिवस, विश्व नेत्रदान दिवस, विश्व नेत्र दान दिवस, विश्व दृष्टिदान दिवस, विश्व दलहन दिवस,

हैदराबाद, सांझ संजोली।।  विश्व दृष्टि दिवस (World Sight Day) हर साल अक्टूबर के महीने में दूसरे गुरुवार को मनाया जाता है ताकि अंधापन और आंखों की देखभाल से संबंधित समस्याओं के बारे में जागरूकता पैदा की जा सके। इस वर्ष विश्व दृष्टि दिवस का बहुत महत्व है क्योंकि कोविड-19 संक्रमण की वजह से कई आंखों की समस्या से जूझ रहे मरीजों ने अपना रूटीन चेकअप आगे बढ़ा दिया है। जिस वजह से उनकी दृष्टि पर गंभीर प्रभाव दिखा रहा है, और आने वाले समय में समस्या गंभीर हो सकती है। आंख शरीर में सबसे महत्वपूर्ण इंद्रियों में से एक है। इसकी देखभाल अत्यंत सावधानी के साथ करी जानी चाहिए। महामारी की वजह से आंखों की गंभीर समस्या का सामना करने वाले मरीजों को स्थायी या अस्थायी अंधापन का सामना भी करना पड़ सकता है। एक अध्ययन के अनुसार अगर समय पर इलाज किया जाए तो 75 प्रतिशत अंधेपन को रोका जा सकता है।

मैक्सिविजन आई हॉस्पिटल के मुख्य सर्जन और संस्थापक डॉ.कासु प्रसाद रेड्डी ने बताया कि आंखों के मामले में जागरूकता लाने के लिए हमने विश्व दृष्टि दिवस पर आज “विजन फस्ट” नाम से अभियान चलाया। इसका मकसद लोगों को आंखों की सुरक्षा के प्रति सजग करना है। इस मौके पर सेंटर में अक्टूबर के महीने में सीनियर सिटीजन को मुफ्त जांच की सुविधा भी दी जाएगी।

आंखों की देखभाल के लिए महत्वपूर्ण बातें जिन पर आपका ध्यान होना बहुत जरूरी हैः

1. कोशिश करें कि कभी भी अपनी पीठ के बल लेट कर न पढ़ें।

2. जहां तक संभव हो, पुस्तक की आंख से 25 सेंटीमीटर की दूरी बनाए रखने की कोशिश करें।

3. लंबे समय तक पढ़ने के बीच में पर्याप्त अंतराल (5 से 10 मिनट) आराम करें। आप कोई भी 5 मीटर दूर किसी दूर की वस्तु को देखकर आंखों को आराम दे सकते हैं।

4. यह महत्वपूर्ण है कि आप बहुत सारे फल और सब्जियां जैसे गाजर, पालक, पपीता और आम खाते हों, क्योंकि ये सभी बीटा-कैरोटीन से भरपूर होते हैं और आपको स्वस्थ आंखें और उचित दृष्टि प्रदान करने में मदद करते हैं।

5. नींद से समझौता बिल्कुल न करें।

6. आंखों को तरोताजा रखने के लिए आंखों को रगड़ने से बचना चाहिए और इसके बजाय आपको ठंडे पानी के छींटे मारने चाहिए।

7. कभी भी धीमी रोशनी में न पढ़ें क्योंकि इससे आंखों की रोशनी जा सकती है।

8. चलती ट्रेन या बस में कभी न पढ़ें।

9. कंप्यूटर पर बहुत अधिक देर पढ़ाई या कोई प्रोजेक्ट बना रहे हों तो चकाचैंध व आंखों को बहुत अधिक रोशनी से बचाने के लिए निर्धारित चश्मों को प्रयोग करें। यह भी जरूरी है कि मॉनिटर को इस तरह से रखें कि आंखों और स्क्रीन के निचले हिस्से के बीच 45 डिग्री का कोण हो।

10. साल में एक बार किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ द्वारा अपनी आंखों जांच अवश्य करवाएं। चश्मे या कॉन्टैक्ट लेंस का उपयोग करने में हमेशा अपने ऑप्टोमेट्रिस्ट के निर्देशों का पालन करें। लगातार सिरदर्द, आंखों में लालिमा, आंखों में पानी आना और आंखों में बार-बार दर्द होना जैसे लक्षण दिखाई देते हों तो नजरअंदाज न करें, अपने माता-पिता को इस बारे में बताएं व जल्द से जल्द विशेषज्ञ की सलाह लें। कई बार ऐसे में आपको एक व्यापक नेत्र जांच के लिए आंख के विशेषज्ञ के पास जाना जरूरी हो जाता है।

Top Trending

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *