ये है सरसों का साग बनाने का बेहतरीन तरीका! एक बार बना देखें

सरसों का साग, बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को पसंद होता है। स्वाद और सेहत से भरपूर सरसों का साग देश के कई हिस्सों में लोकप्रिय है। हरे रंग की करी में सरसों के पत्ते और पालक के गुण होते हैं। जो इसे एक स्वस्थ और सेहत से भरपूर व्यंजन बनाते हैं। सर्दियों के मौसम में साग से साथ गर्मागरम मक्के की रोटी हो तो इसका स्वाद चार गुना बढ़ जाता है। चलिए बिना देर किए सरसों के साग की रेसिपी जानते हैं।

सामग्री:

सरसों के पत्ते
पालक
बथुआ के पत्ते
मूली के पत्ते
नमक
पानी
घी 2 बड़े चम्मच
लहसुन की कलियां 8-10
प्याज 3
अदरक
कटा हुआ टमाटर 3
मिर्च पाउडर 2 बड़े चम्मच
हल्दी
धनिया पाउडर
मकई/मक्के का आटा

सरसों का साग बनाने का तरीका

सबसे पहले सरसों, पालक, बथुआ और मूली के पत्ते काट कर अच्छी तरह से धो लें। अब इन्हें उबाल लें। धीमी आंच पर लगभग 45 मिनट तक प्रेशर कुकर में पकाएं। कुकर को बंद करने से पहले थोड़ा सा नमक डालना न भूलें।

अब जब यह ठंडा हो जाए तो साग से पानी अलग कर लें। साग को ब्लेंड करें और पानी को अलग रख दें।

एक पैन में घी लें, उसमें लहसुन की कलियां, प्याज और अदरक डालें और कुछ टमाटर डालें। टमाटर डालना आपके स्वाद पर निर्भर करता है। अब हल्दी, मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर और नमक सहित मसाले एक-एक करके डालें।

इसमें हरे पत्तों का मिश्रण (साग) डालें। ध्यान रहे कि आपको धीमी आंच में इसे 15 मिनट तक पकाना है।

पत्तों को उबालने के बाद पानी में मक्के का आटा डालें। इस मिश्रण को आपने जो साग बनाया है उसमें डालिये और 10 मिनिट तक सब्जी को अच्छे से पका लीजिये।

आपका सरसों का साग तैयार है। आप इसमें ऊपर से सफेद मक्खन लगाकर, मक्के की रोटी, मूली लच्छा, गुड़ के साथ परोस सकते हैं। ध्यान रखें कि साग को गर्मा-गर्म खाने में ही ज्यादा मजा आता है। इसलिए इसे ठंडा न परोसें।